Share this post

तेलंगाना के मुख्यमंत्री का घर देख लोगों ने बनाया मजाक, बाथरूम भी है बुलेटप्रूफ 

'अपना काम बनता भाड़ में जाए जनता'

देश में आजकल राजनेताओं के तेवर कुछ ऐसे ही नज़र आ रहे हैं। एक तरफ आम जनता चंद रुपयों के लिए घंटों लाइन में लग रही है। वहीं दूसरी ओर कुछ नेता पैसों को पानी की तरह बहा रहे हैं।  

अभी हाल ही में भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने करोड़ों में अपनी बेटी की शादी की और लोगों के आक्रोश का शिकार भी हुए। अब उन्ही के नक्शे-कदम पर चलते हुए तेलंगाना के मुख्यमंत्री ने अपने आलिशान घर में गृहप्रवेश कर जनता की त्यौरियां चढ़ा दी हैं।

तो आइये जानते हैं क्या है पूरा मामला।

तेलंगाना के मुख्यमंत्री का घर देख लोगों ने बनाया मजाक, बाथरूम भी है बुलेटप्रूफ 

तेलंगाना के मुख्यमंत्री का घर देख लोगों ने बनाया मजाक, बाथरूम भी है बुलेटप्रूफ 

754 396
logo
  in Celebrities

 $7.3 मिलियन है घर की कीमत 

 $7.3 मिलियन है घर की कीमत 

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव इसी हफ्ते अपने नए घर में रहने गए हैं। उनके इस घर की अनुमानित कीमत करीब  $7.3m (£5.8m) है। यह घर 9000 स्क्वायर मीटर (100000 स्क्वायर फ़ीट) क्षेत्र में फैला हुआ है।

यह खासियतें हैं इस नए घर की 

यह खासियतें हैं इस नए घर की 

मुख्यमंत्री जी के इस आलीशन घर में 250 सीट वाले ऑडिटोरियम के साथ ही 500 सीट्स वाला मीटिंग हॉल भी बनाया गया है। इतना ही नहीं, इस घर के बाथरूम्स भी बुलेटप्रूफ हैं।

वास्तु के हिसाब से बनवाया है घर 

वास्तु के हिसाब से बनवाया है घर 

मुख्यमंत्री राव का वास्तुशास्त्र में गहरा विश्वास है। उन्होंने अपना यह घर भी वास्तु को ध्यान में रखकर बनवाया है। उनके इस घर का नाम 'प्रगति भवन' है। इस घर में प्रवेश से पहले उन्होंने अपने धार्मिक गुरु चिन्ना जीयर स्वामी से विशेष अनुष्ठान करवाया था। साथ ही उनके गुरु ने उनकी कुर्सी पर बैठकर आर्शीवाद भी दिया।

देखिये एक झलक 

देखिये एक झलक 

मुख्यमंत्री का यह घर राज्य की राजधानी हैदराबाद की प्राइम लोकेशन पर स्थित है। यह मुख्यमंत्री जी का रेसीडेंस प्लस ऑफिस है। गृहप्रवेश समारोह में करीबियों को ही न्यौता दिया गया था।  

उड़ रही है खिल्ली 

मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव की बुलेटप्रूफ बाथरूम्स को लेकर जनता के बीच आक्रोश है। कुछ लोगों ने इस मुद्दे को लेकर उनका काफी मजाक भी बनाया है।  

वास्तु पर अन्धविश्वास के कारण फँस गए थे विवादों में

वास्तु पर अन्धविश्वास के कारण फँस गए थे विवादों में

मुख्यमंत्री राव एक बार राज्य के सचिवालय को सिर्फ इसलिए गिराना चाहते थे क्योकि उनके अनुसार इसका वास्तु राज्य के लिए बुरा था। अपने इस फैसले की वजह से वे लंबे समय तक ख़बरों में थे।  

क्या राजनेताओं के ऐसे खर्चों पर सरकार को जाँच करवा कर उचित फैसले लेने चाहिए?

others like

Loved this? Spread it out then

Report

close

Select you are Reporting

expand_more
  • GreenPear
  • GreenPear
  • GreenStrawberry
  • GreenStrawberry
  • RedApple
  • RedApple
  • +2351 Active user
Post as @guest useror