Share this post

नॉर्मल डिलीवरी चाहते हैं तो गर्भावस्था के दौरान जरूर करें ये काम 

एक औरत पूरे 9 महीने तक एक नन्ही सी जान को अपनी कोख में संभाले रखती है। यह समय किसी भी औरत के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है। लेकिन इसी औरत के लिए वो समय भी बहुत ख़ास होता है, जब उसका बच्चा इस दुनिया में आने वाला होता है, यानि उसकी डिलीवरी का समय।

हर महिला यही चाहती है कि उसकी डिलीवरी नॉर्मल तरीके से हो, उसे सिजेरियन का सहारा न लेना पड़े। लेकिन आजकल की जीवनशैली और महिलाओं में बढ़ती कमजोरी की वजह से अधिकतर मामलों में सिजेरियन ही एक विकल्प बचता है। अगर आप कुछ महीनो में माँ बनने वाली हैं और चाहती हैं कि आपकी डिलीवरी नार्मल तरीके से हो तो अपनी जीवनशैली में ये बदलाव लायें, आपको यकीनन बहुत फायदा मिलेगा।   

नॉर्मल डिलीवरी चाहते हैं तो गर्भावस्था के दौरान जरूर करें ये काम 

नॉर्मल डिलीवरी चाहते हैं तो गर्भावस्था के दौरान जरूर करें ये काम 

754 396
logo
  in Health & Fitness

खायें सही खाना 

खायें सही खाना 

गर्भावस्था के दौरान और डिलीवरी के वक़्त भी महिला को ताकत की बहुत जरुरत होती है। साथ ही इस समय बहुत भूख भी लगती है। इसलिए इस दौरान आप खूब खायें, लेकिन बाहर की फ़ालतू चीजों की जगह पौष्टिक आहार का सहारा लें। इसके अलावा अपने वजन पर भी ध्यान दें। बहुत ज्यादा वजन बढ़ने से भी नार्मल डिलीवरी में दिक्कत आती है।

खूब पानी पियें

खूब पानी पियें

प्रसव के दौरान कड़े श्रम की आवश्यकता होती है। इसलिए बेहतर है कि खुद को ज्यादा से ज्यादा हाइड्रेट रखें। लोग रनिंग या अन्य व्यायाम करते समय स्पोर्ट्स ड्रिंक का सेवन करते हैं। आप भी अपने प्रसव से कुछ दिन पहले से डॉक्टर की सलाह पर स्पोर्ट्स ड्रिंक लेना शुरू कर सकती हैं, जिससे आपको प्रसव के लिए जरुरी ताकत मिल पाएगी।

रोजाना करें व्यायाम 

रोजाना करें व्यायाम 

आपके पास हज़ार बहाने हो सकते हैं लेकिन गर्भावस्था के दौरान व्यायाम करना आपके लिए बहुत फायदेमंद होता है। यह प्रसव के दौरान भी आपको ताकत देता है। आप एक्सपर्ट्स और अपने डॉक्टर की सलाह से वॉकिंग, योग और कीगल जैसे कई व्यायाम कर सकते हैं।

प्रीनेटल क्लासेज जरूर लें

प्रीनेटल क्लासेज जरूर लें

इन क्लासेज में आपको गर्भावस्था और प्रसव से सम्बंधित सारी जरुरी जानकारियां दी जाती है। यह जानकारी आपको लेबर रूम में बहुत काम आएंगी। साथ ही आप गर्भावस्था के दौरान भी ठीक तरह से अपना ध्यान रख पाएंगे।

ब्रीदिंग तकनीक का करें अभ्यास  

ब्रीदिंग तकनीक का करें अभ्यास  

ब्रीदिंग तकनीक के इस्तेमाल से भ्रूण के विकास के साथ ही आपकी ऊर्जा में वृद्धि भी होती है। साथ ही इससे तनाव भी कम होता है। वहीं ज्यादा मात्रा में ऑक्सीजन ग्रहण करने से बच्चे को स्वास्थ्य लाभ होता है और वो प्रसव के दौरान बेहतर तरीके से माँ को सहयोग प्रदान करता है।

तनाव से रहें कोसो दूर 

तनाव से रहें कोसो दूर 

गर्भावस्था के दौरान मूड स्विंगस और चिड़चिड़ होना बहुत आम बात है। लेकिन आप कोशिश करें कि तनाव आपसे दूर रहे। अगर आप ज्यादा तनाव में रहते हैं तो प्रसव में सहायक ऑक्सीटोसिन हॉर्मोन के उत्पादन में बाधा उत्पन्न होती है। इस हॉर्मोन की कमी से प्रसव का समय बढ़ जाता है और नार्मल डिलीवरी में दिक्कतें आती हैं। इसलिए अपने मूड को अच्छा रखने के लिए कोई कॉमेडी फिल्म देखें या पसंदीदा गाने सुनें।

पानी से करें दोस्ती 

पानी से करें दोस्ती 

गर्भावस्था के दौरान हाइड्रोथेरेपी का सहारा लें। आप अगर पानी में वक़्त बिताती हैं तो इससे आपकी बॉडी में ब्लड सर्कुलेशन बढ़ता है और आपको गर्भावस्था और प्रसव के दर्द से भी राहत मिलती है। लेकिन ध्यान रहे कि पानी का तापमान सामान्य ही हो, ज्यादा ठंडा न हो। इसके अलावा जिन महिलाओं का वाटर बैग ब्रेक हो गया हो उन्हें इससे बचने की हिदायत दी जाती है।  

करें पेरीनैल मसाज़

करें पेरीनैल मसाज़

गर्भावस्था के दौरान सातवे महीने के बाद से नियमित रूप से पेरीनैल मसाज़ करना चाहिए। ऐसा करने से प्रसव पीड़ा की चुनौतियों से लड़ने, जोड़ों के दर्द, माँसपेशियों के तनाव और सूजन से राहत में सहायता मिलती है।

क्या व्यक्तिगत तौर पर आप नॉर्मल डिलीवरी की जगह सी-सेक्शन डिलीवरी ज्यादा पसंद करेंगी?

others like

Loved this? Spread it out then

Report

close

Select you are Reporting

expand_more
  • GreenPear
  • GreenPear
  • GreenStrawberry
  • GreenStrawberry
  • RedApple
  • RedApple
  • +2351 Active user
Post as @guest useror