Share this post

गुजरात में पहले ही लीक हो चुका था मोदी का नोट बदलने का प्लान, यहाँ देखें सबूत 

हम बात कर रहे हैं मोदी के उस प्लान की जिसने कुछ ही मिनटों में देश की काया पलट दी, हम उसी प्लान की बात कर रहे हैं जिस प्लान की खबर खुद मोदी सरकार के अधिकतर मंत्रियों को भी नहीं थीI जो प्लान नरेद्र मोदी ने पूरी रणनीति के साथ बनाया था और सोचा था की किसी को कानों कान भनक नहीं लगेगी, लेकिन यह प्लान आज से करीब 6 महीने पहले ही एक गुजराती न्यूज़ पेपर ने अपने पाठकों को बता दी थी। 

गुजरात में पहले ही लीक हो चुका था मोदी का नोट बदलने का प्लान, यहाँ देखें सबूत 

गुजरात में पहले ही लीक हो चुका था मोदी का नोट बदलने का प्लान, यहाँ देखें सबूत 

754 396
logo
  in Lifestyle

मोदी का सीक्रेट 6 महीने पहले ही हो गया था लीक

मोदी का सीक्रेट 6 महीने पहले ही हो गया था लीक

नरेन्द्र मोदी का सीक्रेट उनके ही प्रदेश गुजरात के एक न्यूज़ पेपर ने बहुत पहले ही कर दिया था लीकI

अकिला राजकोट 

अकिला राजकोट 

गुजराती न्यूज़ पेपर अकिला राजकोट ने 1 अप्रैल 2016 में ही अपने एक लेख में यह साबित कर दिया था कि ₹500 और ₹1000 के पुराने नोट बंद होने वाले हैंI

यह है वो आर्टिकल 

यह है वो आर्टिकल 

अकिला न्यूज़ पेपर की यह फोटो 1 अप्रैल की है जिसमे साफ-साफ लिखा है कि ₹500 और ₹1000 के नोट जल्द ही बंद होने वाले हैंI

मैनेजिंग एडिटर ने बताया कि वो अप्रैल फूल आर्टिकल था 

मैनेजिंग एडिटर ने बताया कि वो अप्रैल फूल आर्टिकल था 

गुजराती न्यूज़ पेपर के मैनेजिंग एडिटर Kirit G. Ganatra ने अपने न्यूज़ पेपर की छवि को सुधारते हुए कहा कि वो आर्टिकल 1 अप्रैल 2016 को अप्रैल फूल के तौर पर प्रकाशित किया गया था, लेकिन सयोंगवश वह बात सच हो गईI

रहस्य 

रहस्य 

रहस्यमय तरीके से न्यूज़ पेपर में लिखी बहुत सी जानकारियाँ समान थीं, न्यूज़ पेपर के लेख के अनुसार "जिसके पास भी 500 और 1000 के नोट हैं वो अपने नोट 30 जून से पहले बैंक में जमा कर देंI नरेन्द्र मोदी का यह निर्णय देश से काले धन को खत्म करने के लिए हैI इसके साथ ही इसमें लिखा हुआ है कि ₹2000 से अधिक का लेन-देन अब सिर्फ इन्टरनेट या एटीएम के जरिये ही होगा"I

सोशल मीडिया पर हुआ वायरल

सोशल मीडिया पर हुआ वायरल

मोदी के निर्णय के बाद सोशल मीडिया पर इस न्यूज़ पेपर की फोटो जोर-शोर से शेयर होने लगीI

कई सवाल खड़े होते हैं

कई सवाल खड़े होते हैं

इस खबर की वजह से बहुत से सवाल खड़े होते हैं, क्या गुजरात में नोटों के बंद होने की खबर पहले से थी? क्या इस खबर की जाँच होनी चाहिए?

अब इन सवालों का जवाब तो आने वाले वक्त में ही मिलेगाI

क्या वाकई इस अखबार के द्वारा यह खबर लीक हुई है या यह केवल अप्रैल फूल का एक मजाक था?

others like

Loved this? Spread it out then

Report

close

Select you are Reporting

expand_more
  • GreenPear
  • GreenPear
  • GreenStrawberry
  • GreenStrawberry
  • RedApple
  • RedApple
  • +2351 Active user
Post as @guest useror