SPONSORED

इंदौरी चच्चा: क्या आग लगारे हो खां, मतलब टिप-टिप बरसा गाने पर इत्ती चकझन्नाट राय बाट रिये हो!   

टिप-टिप बरसे पानी ने आग लगई के नी लगई ये अपने को नी मालूम पर इस रिव्यू ने तो सुलगा दी है।    

SPONSORED

! ! , - ,

चेनल खोल लिया है लौंडे ने 

चेनल खोल लिया है लौंडे ने 

अरे भिया मतलब इंदौरी लौंडा अलग नी मान रिया है, युटुब पे पेज़ बना लिया है छोरे ने। और शो के नाम में ही इंदौरीपन झलकता रिया है, कभी गाना कभी लॉजिक अब भिया दुनिया जानती है इंदौरी लोग बिना लाजिक की बात तो करतेई नी है। 

RELATED STORIES

SPONSORED
SPONSORED

कईयों के बचपन नी बुढ़ापा भी बिगाड़ दिया इस गाने ने 

कईयों के बचपन नी बुढ़ापा भी बिगाड़ दिया इस गाने ने 

जाकिर भिया मोहरा पिक्चर के इस गाने ने खाली बच्चों का बचपना ख़राब नी किया इस के चक्कर में तो कई डोकरों के बुढ़ापे भी ख़राब हो गए हैं। रवीना टंडन को देखके कुछ डोकरों ने पानी में इतनी आग लगाई कि दुसरे दिन उनके शरीर में आग लगनी पढ़ी।

भिया ये तो अपने को भी समझ में नी आया 

भिया ये तो अपने को भी समझ में नी आया 

भिया अब आप ही बताओ आप पुलिस में हो और आपको फोन आये की कोई छोरी खुदखुशी कर रही है। तो आप क्या करोगे? रेन दो यार तुम सब भी वई सोच रिये हो जो अक्षय कुमार कर रिया है। नी मतलब शहर में गोलिया चल रही है मर्डर हो रहे हैं और भिया को छोरी को बचाने जाना है वो भी सूट बुट में मतलब हद है यार।

जाकिर भिया गजब यार  

जाकिर भिया गजब यार  

अरे भिया सब हॉटनेस के चक्कर में पिघल गिए रातभर गाना देख कर आहें भरने वालों अगर तुम्हें कोई ऐसे मोसम में अकेले कोई मिल जाए तो टाँके खुल जाए।  अब भिया समझ रिये हो ना टाँके का के खुलेंगे।   

भिया आर्ट की इज्ज़त कर रिया है पर पिघल नी रिया 

भिया आर्ट की इज्ज़त कर रिया है पर पिघल नी रिया 

अब क्या इंस्पेक्टर साहब को पता तो चल गिया के छोरी अपने को गोलू बनारी है पर फिर भी भिया ने सोचा अब आएं है तो नाच गाना देख कर चले जाएँ पर भिया पिघले नी न उनकू मतलब ही नी है कोई नाच रिया कई क्या कर रिया है कोई मतलब नी।  

भिया रवीना टंडन भी कोई कच्ची खिलाड़न नहीं थी  

भिया रवीना टंडन भी कोई कच्ची खिलाड़न नहीं थी  

भिया इधर अपना सख्त लौंडा अक्षय मान ही नी रिया था, और उधर रवीना भी अपना फूल एम ले के आई थी। रवीना ने भी सारे स्टेप कर डाले पर डाइरेक्टर को मालुम था सख्त लौंडे कहाँ पिघलते हैं। भिया यहाँ पर पिघलते हैं सख्त लौंडे...    

देव दर्शन के बाद जो लौंडा नाचा 

देव दर्शन के बाद जो लौंडा नाचा 

भिया बस एक बार बस दर्शन मिलने थे फिर तो भाई क्या नाचा है। मतलब घुंघरू-ऊँनगरु तोड़ के सारे बंधन वंधन तोड़ के मतलब जो नाचा है न लौंडा मतलब सई में भी पानी में आग लगा दी छोरे ने।    

भाई के पेली बटन में साड़ी अटकी 

भाई के पेली बटन में साड़ी अटकी 

नी मतलब जब सब सई साठ हो गिया था अपना लौंडा भी नाचने लग गिया था पानी में भी आग वाग लग ही गई थी। अपने जाकिर भिया ने सोचा अब ख़तम हो गिया बेचारे जाकिर भाई अपने भोले आदमी पर जब अगला सिन आया, भिया की पेली बटन में साड़ी अटक गई यार मतलब हद है कफ में साड़ी अटकती है, ब्रेसलेट में अटकती है पर बटन में????        

भिया देखो अपने इंदौरी लौंडे का चकझन्नाट रिव्यू  

SPONSORED
s