Share this post

परीक्षा में बच्चों से पूछा सवाल 'विराट कोहली की गर्लफ्रेंड का नाम क्या है?'

अगर आप सोच रहे हैं कि यह सवाल किसी इनाम जीतो प्रतियोगिता में पूछा गया है, तो आप बिलकुल गलत हैं। जिसका जवाब आज पूरी दुनिया जानना चाहती है वही सवाल एक स्कूल ने नौवी के बच्चों से परीक्षा में पूछ लिया। वैसे परीक्षा तो शारीरिक विकास की थी मगर विराट कोहली की गर्लफ्रेंड के बारे में पूछ कर स्कूल बच्चों का कौनसा शारीरिक विकास करवा रहा है यह तो स्कूल प्रशासन ही जाने। हाँ, बच्चों के भविष्य का तो स्कूल प्रशासन ने मज़ाक बना कर रखा है।

परीक्षा में बच्चों से पूछा सवाल 'विराट कोहली की गर्लफ्रेंड का नाम क्या है?'

परीक्षा में बच्चों से पूछा सवाल 'विराट कोहली की गर्लफ्रेंड का नाम क्या है?'

754 396
logo
  in Celebrities

यह था सवाल 

यह था सवाल 

परीक्षा में बच्चों से पूछा गया विराट कोहली की गर्लफ्रेंड का नाम क्या है, और ऑप्शन दिए गए प्रियंका, अनुष्का और दीपिका।

प्रश्न भी गलत लिखा 

प्रश्न भी गलत लिखा 

स्कूल प्रशासन ने सवाल तो गलत पूछा ही था मगर उसे लिखा भी गलत था। सवाल होना चाहिए था 'विराट कोहली की गर्ल फ्रेंड का नाम?' पर यहाँ पूछा गया 'विराट कोहली के गर्लफ्रेंड का नाम?' अब स्कूल के अध्यापकों को व्याकरण का इतना ज्ञान तो होना ही चाहिए ना। 

यह है वह प्रश्न पत्र 

यह है वह प्रश्न पत्र 

यह वह प्रश्न पत्र है जिसमें इस तरह का सवाल पूछा गया।  

बच्चों ने की पुष्टि 

बच्चों ने की पुष्टि 

जब मीडिया ने इस स्कूल के बच्चों से इस सवाल के बारे में पूछा तो उन्होंने स्वीकारा कि स्कूल प्रबंधन ने इस तरह का सवाल परीक्षा में पूछा था।  

नहीं पूछना चाहिए था ऐसा सवाल 

नहीं पूछना चाहिए था ऐसा सवाल 

जब मीडिया ने स्कूल की छात्राओं से बात की तो उन्होंने इस सवाल का सही जवाब बताया मगर साथ ही कहा भी कि ऐसा सवाल नहीं पूछना चाहिए था परीक्षा में।

देश के पहले प्रधानमंत्री के नाम पर है स्कूल 

देश के पहले प्रधानमंत्री के नाम पर है स्कूल 

यह स्कूल देश के पहले प्रधानमंत्री चाचा नेहरु के नाम पर है। इस स्कूल ने सिर्फ शिक्षा को शर्मसार नहीं किया है बल्कि चाचा नेहरु के नाम को भी धूल में मिला दिया है।

अभिभावकों ने की आलोचना 

अभिभावकों ने की आलोचना 

इस मामले पर अभिभावकों का कहना है कि यह उनके बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। ऐसे सवालों से उनके बच्चों की मानसिकता पर क्या प्रभाव पड़ेगा।   

टीवी देख कर वैसे ही बिगड़ चुके हैं बच्चे 

टीवी देख कर वैसे ही बिगड़ चुके हैं बच्चे 

एक अभिभावक ने कहा वैसे ही बच्चे टीवी देख कर इतने बिगड़ चुके हैं। अब स्कूल प्रबंधन उन्हें और बिगाड़ने की तर्ज़ पर काम कर रहा है।   

प्रिंसिपल ने दिया बेतुका जवाब 

प्रिंसिपल ने दिया बेतुका जवाब 

जब इस मामले में स्कूल के प्रिंसिपल से मीडिया ने बात की तो उन्होंने कहा जिस महोदय ने पेपर निकाला था वह विराट के बहुत बड़े प्रशंसक है। इसलिए अतिउत्साह में उन्होंने यह प्रश्न पूछ लिया।    

क्या मज़ाक बना कर रखा है बच्चों के भविष्य का?

क्या मज़ाक बना कर रखा है बच्चों के भविष्य का?

अब सवाल यह उठता है क्या ऐसे स्कूल बच्चों के भविष्य को मजाक समझते हैं। उन बच्चों के अभिभावक खून पसीना एक कर के अपने बच्चों को पढ़ाते हैं ताकि वे अच्छी शिक्षा हासिल कर लें।  क्या इस तरह दे रहे हैं स्कूल बच्चों को अच्छी शिक्षा? यह समय विचार करने का है, आखिर हम कहाँ ले जाना चाहते हैं देश के भविष्य को।  

ख्याल रखना इनका, कहीं "खो न जाएं यह, तारे ज़मीन पर.."

Loved this? Spread it out then

Report

close

Select you are Reporting

expand_more
  • GreenPear
  • GreenPear
  • GreenStrawberry
  • GreenStrawberry
  • RedApple
  • RedApple
  • +2351 Active user
Post as @guest useror