Share this post

मैं लौटकर आना चाहती हूँ, पर कैसे?

सामने हो तब हम कभी कुछ कह नहीं पाते हैं,

यह अपने दूर चले जाने पर बहुत याद आते हैं।।

हम जिन्हें प्यार करते हैं उनसे दूर जाना बहुत तकलीफ देता है। हमारे माँ-बाप, भाई-बहन हमसे इस तरह जुड़े होते है कि हम चाहकर भी खुद को इनसे जुदा नहीं कर सकते। फिर जब कभी हम नाराज़गी में ही सही, इनसे दूर चले जाते हैं तो इन्हें बहुत याद करते हैं।

यह एक ऐसी लड़की का खत है जो अपनों से दूर चली गयी है और अब लौटकर आना चाहती है। 

मैं लौटकर आना चाहती हूँ, पर कैसे?

मैं लौटकर आना चाहती हूँ, पर कैसे?

754 396
  in People

सबसे बहुत सारी बातें करनी हैं 

सबसे बहुत सारी बातें करनी हैं 


माँ....पापा.... मुझे आपसे ढेर सारी बातें करनी हैं। आपसे माफ़ी भी मांगनी है कि बिना कुछ बताए आपको छोड़कर इतनी दूर आ गयी। मैं आपके पास वापस आना चाहती हूँ लौटकर।

माँ तू बहुत याद आती है

माँ तू बहुत याद आती है

माँ मुझे तेरी बहुत याद आती है। तेरे हाथ का खाना, तेरी प्यारी सी डांट, तेरा गलती करने पर टोकना, थक कर घर आने पर तेरा सर की मालिश करना। माँ यहाँ कोई नहीं बताता क्या गलत, क्या सही। कोई गरम-गरम खाना भी नहीं खिलाता।


पापा आपके बगैर कैसे रहूँ मैं

पापा आपके बगैर कैसे रहूँ मैं

पापा.... आपसे मैं क्या बोलूं? मुझे लगता था मैं आपके बगैर नहीं रह सकती और सच में, मैं नहीं रह पा रही हूँ इतनी  दूर।पापा मुझे आपको गले लगाना है।आपकी गोद में सर रखकर सोना है।मुझे यहाँ बहुत डर लगता है। मुझे आपके पास आना है ताकि मुझे कोई न डरा सके।


मेरी बहन मुझे माफ़ कर दे

मेरी बहन मुझे माफ़ कर दे

बिन्नी, मेरी प्यारी बहन हम तो हमेशा एक दूसरे का साथ देते थे ना और अब देख मैं तुझे छोड़कर इतना दूर चली आई । मैं वापस आयी तो तू मुझे माफ़ तो कर देगी ना? तुझे पता है मेरा फेवरेट ब्लैक टॉप मुझसे ज्यादा तुझ पर अच्छा लगता है। मैं तो बस तुझे चिढ़हाने के लिए नहीं देती। मुझे आकर तुझसे छोटी-छोटी बातों पर बहस करना है,और फिर उन झगड़ो पर हँसकर तुझे गले लगाना है।


भाई कोई तंग नहीं करता अब

भाई कोई तंग नहीं करता अब

बिट्टू मेरे नन्हे से भाई तुझे बहुत गुस्सा आता था ना जब भी मैं तुझे डांट लगाती थी। अब कोई इस तरह तुझे तंग नही करता होगा। पर यार मैं बहुत प्यार करती हूँ तुझसे। मुझे तेरे पास आकर, तुझे बताना है कि तू वर्ल्ड का बेस्ट भाई है।


मैं खुद से ही नाराज़ हूँ

मैं खुद से ही नाराज़ हूँ

मुझे पता है आप सब नाराज़ हो मुझसे और बहुत गुस्सा भी। मैं आपको बिना कुछ बताये इतनी दूर चली आई। मैं भी नाराज़ हूँ खुद से। बहुत ज्यादा। सबसे ज्यादा।


अकेली हो गयी हूँ बहुत

अकेली हो गयी हूँ बहुत

मैं बहुत अकेली हूँ यहाँ। बहुत घुटन होती है। कोई दोस्त नहीं है कोई अपना भी नहीं है। बस मैं ही हूँ। आपको तो पता है ना मैं कहाँ हूँ तो आ जाओ ना लेने। प्लीज!


नहीं आ सकती मैं लौटकर

नहीं आ सकती मैं लौटकर

मुझे पता है मैं कितना भी बोलूं आप नहीं आओगे। कोई नहीं आएगा।क्योंकि मैं बिना सोचे समझे जहाँ आ गयी हूँ वहां से कोई लौटकर वापस नहीं आता। मैं भी नहीं आ सकती। कभी भी नहीं।


काश मैं आ पाती

काश मैं आ पाती

अब मुझे लगता है वजह जो भी हो, इतनी बड़ी नहीं थी कि मैं आपको और दुनिया को छोड़ दूँ। मैं अगर आपको एक बार भी बता देती, तो मुझे यहाँ नहीं आना पड़ता। पर अब मैं कुछ भी बोलूं कोई मतलब नहीं। कोई नहीं सुनेगा। आप भी नहीं। मुझे बस यहाँ नहीं आना चाहिए था। 

पर मुझे फिर भी वापस आना है, लौटकर आपके पास। 


Loved this? Spread it out then

Report

close

Select you are Reporting

expand_more
  • GreenPear
  • GreenPear
  • GreenStrawberry
  • GreenStrawberry
  • RedApple
  • RedApple
  • +2351 Active user
Post as @guest useror
stop

NSFW Content Ahead

To access this content, confirm your age by signing up.