Share this post

बेरी के पेड़ में छुपा होता है मीठा अमृत! है ना, हैरान कर देने वाली बात 

हम अक्सर शहरों से गांवो में जाते हैं। गांवों में हमे वो मिलता है जो कभी शहरों में नहीं मिलता। शहर के लोग गांवों में रह तो नहीं सकते पर जब महीनो से गांव में जाते है तो वहां का मजा फुल लेकर आतें हैं। हमारे राजस्थान के गांवो में एक चीज सबसे ज्यादा पसंद की जाती है जिसके लिए शहर का हर वो इंसान तरसता है जो कभी गाँव की मिट्टी से जुड़ा होता था। जो कभी गाँव में रहा था।
राजस्थान के गांवो के बेर शहर के लोगो को बहुत पसंद आते है। जब भी कोई शहरी गाँव में आता है तो यकीनन वो राजस्थान में एंट्री करते ही किसी ना किसी बेरी के पास अपनी कार रोकता है और बेरी के मीठे बेर खाता है।
मीठे बेर तो सभी को पसंद आते है पर आज हम बेरी के पेड़ की वो ख़ास बात बताने वाले है जो बहुत कम लोगो को पता होती है।




बेरी के पेड़ में छुपा
होता है मीठा अमृत! है ना, हैरान कर देने वाली बात 

बेरी के पेड़ में छुपा होता है मीठा अमृत! है ना, हैरान कर देने वाली बात 

754 396
logo
  in OMG!

बेरी के पेड़ में होता है अमृत 

बेरी के पेड़ में होता है अमृत 

आप लोगो ने अक्सर किसी ना किसी बेरी पर ये फूल (खिचड़ी, मिंजर) लगे तो देखें होंगे। इन फूलों को अलग-अलग नाम से जाना जाता है जैसे राजस्थान में इसे खिचड़ी या मिंजर के नाम से जाना जाता है। इस फूल को शायद ही किसी ने बहुत नजदीक से देखा हो। यदि आप इस फूल को एक दम नजदीक से देखते हो तो इस फूल पर हमेशा एक पानी की बूंद रहती है। जब ये फूल बेरी के लगते है तब से वो बूंद भी इसी फूल के ऊपर रहती है।

बूंद नहीं मीठा अमृत है यह

बूंद नहीं मीठा अमृत है यह

इस बूंद को देखने से तो लगता है की मानो ओस की बूंद हो पर ये ओस की बूंद नहीं है। सुश्रुत सहिंता (जिसमे वैध्य विधि का विवरण हैं) इस किताब में लिखा है की बेरी के फूल (मिंजर) पर जो ओस की बूंद सी प्रतीत होती है। वह बूंद मीठे अमृत के समान है। इस बूंद का स्वाद किसी शहद के नहीं होता है। यह इतनी मीठी होती है की यदि आप इसे एक बार मुहं के लगाते हो तो बार बार इसी की तरफ आकर्षित होंगे।

मधुमखियाँ बनाती है इसी से शहद

मधुमखियाँ बनाती है इसी से शहद

आपने ये तो सुना होगा की मधुमखियाँ फूलों के रस से शहद बनाती है। आपने शायद बहुत से फूल गौर से देखें भी होंगे पर हमें उस फूल में मीठा पेय पदार्थ कहीं नहीं मिलता हैं। वैसे ही मधुमखियाँ बेरी के पेड़ पर लगे इन फूलों पर लगी इस बूंद को भी उठा ले जाती है और अनेक फूलों के रस में मिला देती हैं।

अनेक रोगों से बचाती है ये बूंदे

अनेक रोगों से बचाती है ये बूंदे

आज योग गुरु बाबा रामदेव अपनी देश दवाइयों से अनेक रोगों का निवारण करतें हैं। इनकी दवाइयां अनेक प्राकृतिक जड़ी बूटियों से बनाई जाती हैं। इन जड़ी बूटियों में बेरी के इस फूल का भी प्रयोग किया जाता है।

फूलों पर लगी ये बूंद नहीं आने देती रोग को पास 

फूलों पर लगी ये बूंद नहीं आने देती रोग को पास 

यदि इन फूलों पर लगी इन बूंदों का आप सुबह सुबह सेवन करते हैं तो यह छोटी सी बूंद अनेक रोगों का निवारण करने में सहायक हैं।

बेर का मीठा होना भी इसी बूंद से जुड़ा हुआ है 

बेर का मीठा होना भी इसी बूंद से जुड़ा हुआ है 

बेर इतने मीठे कैसे होते हैं? इस सवाल उत्तर यही मीठी बूंद हैं इसी के कारण बेर मीठे होते हैं और यही बूंद उन्हें पकने में मदद करती हैं।

बेरी के पेड़ की ये ख़ास बात शायद ही आपको पता हो



बेरी
के पेड़ की ये ख़ास बात शायद ही आपको पता हो

यह जानकारी आपको कैसी लगी हमें जरुर बताएं किसी भी प्रकार का संदेह है तो हमारे साथ शेयर करें।

Loved this? Spread it out then

Report

close

Select you are Reporting

expand_more
  • GreenPear
  • GreenPear
  • GreenStrawberry
  • GreenStrawberry
  • RedApple
  • RedApple
  • +2351 Active user
Post as @guest useror