Share this post

पत्नी से परेशान युवक ने की आत्महत्या, पत्र पढ़कर उड़े घरवालों के होश 

अक्सर ही खबरों में महिला उत्पीड़न या घरेलू हिंसा से सम्बंधित खबरों की भरमार रहती है। इसी वजह से कई महिलायें अपनी जीवनलीला समाप्त कर लेती हैं। पर हाल ही के एक नए मामले में एक पत्नी ने अपने पति को इतना प्रताड़ित किया कि तंग आकर उसने आत्महत्या ही कर ली। ब्रजेश श्रीवास नामक यह युवक इंदौर के एक कॉलेज में लैब असिस्टेंट के पद पर कार्यरत था। उसने कॉलेज परिसर में ही आत्महत्या कर ली।

आइये जानते हैं घटना के बारे में विस्तार से। 

पत्नी से परेशान युवक ने की आत्महत्या, पत्र पढ़कर उड़े घरवालों के होश 

पत्नी से परेशान युवक ने की आत्महत्या, पत्र पढ़कर उड़े घरवालों के होश 

754 396
logo
  in People

कॉलेज परिसर में की आत्महत्या

कॉलेज परिसर में की आत्महत्या

30 वर्षीय ब्रजेश श्रीवास इंदौर के धार रोड स्थित जगत गुरु दत्तात्रय कॉलेज ऑफ टेक्नोलॉजी में तीन वर्ष से लैब असिस्टेंट था। सितम्बर महीने की 19 तारीख को उसने कॉलेज की तीसरी मंजिल पर जाकर फांसी लगा ली। उसने कॉलेज के सीसीटीवी कैमरा भी बंद करवा दिए थे। पुलिस ने उसकी जेब से दो पन्नो का एक पत्र भी बरामद किया है।

घरवालों से नहीं शिकायत

घरवालों से नहीं शिकायत

इस पत्र में ब्रजेश ने अपनी पत्नी व ससुरालवालों पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं। इस पत्र में उसने लिखा है कि वह 19 सितम्बर को अपनी जीवनलीला समाप्त कर रहा है। उसने सभी लोगों से माफ़ी मांगी है। उसने घरवालों से कहा कि वह उन सबसे बहुत प्यार करता है और अपनी जिंदगी से खुश था।

पत्नी का बर्ताव था बुरा

पत्नी का बर्ताव था बुरा

आगे उसने लिखा है कि 2013 में उसकी शादी निशा से हुई थी। शादी के बाद से ही निशा ब्रजेश के घरवालों से बुरा बर्ताव करती थी। ब्रजेश ने इसका विरोध किया और निशा के घरवालों से भी बात की, पर उन्होंने निशा का ही साथ दिया।

पत्नी का परिवार भी था प्रताड़ना में शामिल

पत्नी का परिवार भी था प्रताड़ना में शामिल

वे चाहते थे ब्रजेश घरवालों से अलग हो जाये और मना करने पर वे सब मिलकर ब्रजेश के परिवार को दहेज प्रताड़ना और घरेलू हिंसा के मामले में फंसाने की धमकी देने लगे। उसका परिवार अब मानसिक रूप से बहुत प्रताड़ित हो चुका है इसलिए वह जीना नहीं चाहता।

पत्नी को मिले सजा

पत्नी को मिले सजा

साथ ही उसने अंत में लिखा है कि अगर महिलाओं के लिए घरेलू हिंसा के मामले में कोई कानून हो तो निशा, उसकी माँ और भाई को जरूर सजा मिले। वह चाहता है कि मरने के बाद निशा उसके घर में न रहे और उसकी अंतिम इच्छा है कि उनकी बेटी की कस्टडी ब्रजेश की माँ को मिलें।

परिवार सदमे में

परिवार सदमे में

इस दुर्घटना से ब्रजेश का परिवार काफी सदमे में हैं। उसके पिता को समझ नहीं आ रहा हैं कि जवान बेटे की अर्थी को कन्धा देने की हिम्मत कहाँ से लाए। ब्रजेश की बहन का कहना है कि निशा दो साल से उसके भाई पर अत्याचार कर रही है। उसने तो भाई पर हाथ भी उठाया था और मोबाइल भी फेंक दिया था। इससे ब्रजेश को काफी धक्का लगा था। वह चाहती हैं कि मुजरिमों को कड़ी से कड़ी सज़ा मिले। 

Loved this? Spread it out then

Report

close

Select you are Reporting

expand_more
  • GreenPear
  • GreenPear
  • GreenStrawberry
  • GreenStrawberry
  • RedApple
  • RedApple
  • +2351 Active user
Post as @guest useror