SPONSORED

पत्नी की लाश को कंधे पर उठाने वाले मांझी बने लखपति

मांझी की दुखभरी घटना के बारे में जानकर बहरीन के प्रधानमंत्री ने मांझी की मदद करने का जो वादा किया था उसे निभाया भी-

पत्नी की लाश को कंधे पर उठाने वाले मांझी बने लखपति
SPONSORED

24 अगस्त को इंसानियत के लिए काला दिन था, जिस दिन ओडिशा के दाना मांझी की पत्नी अमांग की टी.बी. की बीमारी के चलते भवानीपटना के एक अस्पताल में मौत हो गई थी, अस्पताल ने उन्हें एम्बुलेंस मुहैया करने से इंकार कर दिया था। 

SPONSORED

कंधे पर पत्नी की लाश उठाने को मजबूर हुए थे।

कंधे पर पत्नी की लाश उठाने को मजबूर हुए थे।

कोई साधन ना मिलने के कारण मांझी को पत्नी की लाश को अपने कंधे पर उठाकर 12 किलोमीटर तक पैदल चलते हुए अपने गाँव तक ले जाना पड़ा था, साथ में उनकी बड़ी बेटी भी थी जो फोटो में रोते हुए दिखाई दे रही है।

RELATED STORIES

लोग तमाशा देखते रहे।

लोग तमाशा देखते रहे।
via

जब वो लाश को ले जा रहा था तोह लोग बूत बने तमाशा देख रहे थे कोई भी उसकी सहायता करने आगे नहीं आया।

इंटरनेशनल मीडिया में छाई थी खबर।

इंटरनेशनल मीडिया में छाई थी खबर।
via

इस घटना की जानकारी सिर्फ भारत ही नहीं पूरी दुनिया की मीडिया में ये खबर छा गई थी, ये देखकर लोगो का दिल पसीज गया था, बहरीन के प्रधानमंत्री के साथ कई लोगो ने उनकी आर्थिक मदद के लिए पेशकश की थी।

सबसे बड़ी सहायता राशि आई बहरीन के प्रधानमंत्री की और से।

सबसे बड़ी सहायता राशि आई बहरीन के प्रधानमंत्री की और से।
via

वैसे तो कई लोगो ने, संस्थाओ ने और सरकार ने मांझी की आर्थिक मदद की है, लेकिन सबसे बड़ी सहायता राशि बहरीन के प्रधानमंत्री खलीफा बिन सलमान अल खलीफा ने दी। इन्होने मांझी को 8.77 लाख का चेक दिया है।

सहायता का चेक लेने प्लेन से गए थे दिल्ली।

सहायता का चेक लेने प्लेन से गए थे दिल्ली।
via

कभी घंटो तक पत्नी की लाश का बोझ ढोते हुए गाँव जाने वाले मांझी ने सपने में भी नहीं सोचा था की कभी वो हवाई जहाज का सफ़र करेंगे परन्तु वो बहरीन दूतावास से चेक लेने के लिए दिल्ली प्लेन से पहुंचे थे।

SPONSORED

बेटियों की भी किस्मत बदली।

बेटियों की भी किस्मत बदली।
via

दाना मांझी की तीन बेटियां है, तीनो बेटियों की पढाई भुवनेश्वर के रेजिडेंशियल कलिंग इंस्टिट्यूट ऑफ़ सोशल साइंस में होगी। सुलभ इंटरनेशनल दाना मांझी की बड़ी बेटी को 10000 रुपये महिना देगी जब तक की उसकी शादी ना हो जाए या रोजगार नहीं मिलता साथ ही सुलभ ने दाना मांझी के लिए 5 लाख का फिक्स डिपाजिट भी कराया है।

सरकार ने भी की मदद।

सरकार ने भी की मदद।
via

मांझी को जिला प्रशासन ने भी 30000 रूपए और एक बोरी चावल दिए है। राज्य सरकार ने इंदिरा आवास योजना के अंतर्गत 75000 के साथ ही 4 डिसमिल जमीन भी दी गई है।

ये थी मांझी की पत्नी अमांग।

ये थी मांझी की पत्नी अमांग।
via

इस तस्वीर में जो महिला दिखाई दे रही है ये थी मांझी की पत्नी अमांग।
अब ये तो नहीं रही इस दुनिया में लेकिन शायद इनके कारण गाँव को कोई सौगात मिल जाए क्योंकि इनके गाँव 'मेलघरा रामपुर' में आज भी मुलभुत सुविधाओ की कमी है। यहाँ के किसान आज भी गरीबी में जी रहे है, हो सकता है इस घटना की बाद प्रशासन इस गाँव की दशा बदल दे।

SPONSORED
-->