Share this post

जनवरी से दिसंबर तक के नामों का रहस्य

आप सभी को दिन, तारीख और महीनों के नाम तो याद ही होंगे। लेकिन अगर आपसे कोई पूछे की जनवरी, फरवरी आदि नाम कहाँ से आये तो आपका जवाब क्या होगा? कुछ लोग कहेंगे की जब से दुनिया बनी है तब से यह नाम बोले जा रहे हैं। लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं है।

इसके पीछे एक बहुत बड़ा रहस्य है। आज इस पोस्ट में हम बताएंगे क्या है वो रहस्य। 

जनवरी से दिसंबर तक के नामों का रहस्य

जनवरी से दिसंबर तक के नामों का रहस्य

754 396
logo
  in Lifestyle

जनवरी

जनवरी

जनवरी के महीना का नाम रोमन के देवता 'जेनस' के नाम पर पड़ा है। जेनस को लैटिन में जैनअरिस कहते हैं। जेनस बाद में जनुअरी बना और फिर जनवरी।

फरवरी

फरवरी

फेब्रुअरी महीना लैटिन के फैबरा यानि "शुद्धि की देवता" से बना हुआ है। कुछ लोग फेब्रुअरी का नाम रोम की देवी फेब्रुएरिया की उत्पत्ति भी मानते हैं।

मार्च

मार्च

मार्च का नाम रोमन के देवता 'मार्स' से पड़ा हुआ है। रोमन में वर्ष की शुरवात भी इसी महीने से होती थी।

अप्रैल

अप्रैल

लैटिन शब्द 'ऐपेरायर' से अप्रैल महीना के नाम जुड़ा हुआ है। इसका मतलब होता है खुलना, जो कलियों के खिलने से संबंधित है। रोम में इस महीने से वसंत की शुरुआत होती है।

मई

मई

रोमन के देवता मरकरी की माता 'मईया' के नाम पर मई महीना का नाम पड़ा।

जून 

जून 

रोम के सबसे बड़े देवता 'जियस' हैं और उनकी पत्नी का नाम 'जूनो' है। रोम के लोगों ने जूनो नाम से जून शब्द को बनाया है।

जुलाई

जुलाई

रोमन साम्राज्य के शासक 'जूलियस सिजर' पर इस महीना का नाम जुलाई पड़ा है। जूलियस सिजर का जन्म और म्रत्यु इसी महीने में हुए थी।

अगस्त 

अगस्त 

'आगस्टस सिजर' के नाम पर इस महीना का नाम अगस्त रखा गया।

सितम्बर 

सितम्बर 

रोम में सितम्बर को सप्टेंबर कहते थे। सप्टेंबर में 'सेप्टेम' लैटिन शब्द है।

अक्टूबर

अक्टूबर

अक्टूबर लैटिन के ऑक्टो से बना हुआ है।

नवम्बर

नवम्बर

नवम्बर लैटिन के नवम शब्द से बना हुआ है। लेकिन इसको नवम्बर ही कहा जाता है।।

दिसम्बर 

दिसम्बर 

दिसम्बर लैटिन के डेसेम शब्द से आया है।

Loved this? Spread it out then

Report

close

Select you are Reporting

expand_more
  • GreenPear
  • GreenPear
  • GreenStrawberry
  • GreenStrawberry
  • RedApple
  • RedApple
  • +2351 Active user
Post as @guest useror